Latest Post

भारतीय संविधान के अधिकार

विश्व के अधिकांश दूसरे लोकतंत्र की तरह भारत में भी अधिकार संविधान में दर्ज है हमारे जीवन के लिए बुनियादी रूप से जरूरी अधिकारों को विशेष दर्जा दिया गया है इन्हें मौलिक अधिकार कहा जाता है यह सभी नागरिकों को समानता स्वतंत्रता और न्याय दिलाने की बात कहता है मौलिक अधिकार इन वायदों को व्यवहारिक रूप देते हैं यह अधिकार भारत के संविधान की एक महत्वपूर्ण बुनियादी विशेषता है आइए एक-एक करके सभी मौलिक अधिकारों के बारे में जानते हैं। समानता का अधिकार हमारा संविधान कहता है कि सरकार भारत में किसी व्यक्ति को कानून के सामने समानता या कानून से संरक्षण के मामले में समानता के अधिकार से वंचित नहीं कर सकती इसका मतलब यह हुआ कि किसी व्यक्ति का दर्जा या पद चाहे जो हो सब पर कानून समान रूप से लागू होता है इसे………..

Latest Post

भारतीय संविधान का निर्माण

दक्षिण अफ्रीका की तरह भारत का संविधान भी बहुत कठिन परिस्थितियों के बीच बना भारत जैसे विशाल और विविधता भरे देश के लिए संविधान बनाना आसान काम नहीं था भारत के लोग तब गुलाम की हैसियत से निकलकर नागरिक की हैसियत पाने जा रहे थे देश ने धर्म के आधार पर बहुत बंटवारे की विभीषिका झेली थी भारत और पाकिस्तान के लोगों के लिए बटवारा भारी बर्बादी और दहलाने वाला अनुभव था विभाजन से जुड़ी हिंसा में सीमा के दोनों तरफ कम से कम दस लाख लोग मारे जा चुके थे एक बड़ी समस्या और भी थी अंग्रेजों ने देसी रियासतों के शासकों को यह आजादी दे दी थी कि वे भारत या पाकिस्तान जिसमें इच्छा हो अपने रियासत का विलय कर दें या स्वतंत्र रहें इन रियासतों का विलय मुश्किल और अनिश्चय भरा काम था जब संविधान लिखा जा…………

Latest Post

भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस की स्थापना

भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस की स्थापना 1885 में हुई थी इसकी पहली बैठक मुंबई में 28 दिसंबर 1985 में हुई थी इसके प्रथम अध्यक्ष डब्ल्यू सी बनर्जी थे तथा इसमें संपूर्ण भारत से 72 प्रतिनिधि शामिल हुए थे ए. ओ. ह्यूम जो कि एक अंग्रेज थे और भारतीय सिविल सेवा से सेवानिवृत्त हुए थे उन्होंने इस प्रक्रिया में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाई यह प्रायः कहा जाता है कि ए ओ ह्यूम नें कांग्रेस की स्थापना करके सेफ्टी वाल्व उपलब्ध कराया था जो ब्रिटिश शासन के विरुद्ध भारतीय जनसाधारण में फैली व्यापकता शांति और हलचल से ध्यान हटा दें। यह दृष्टिकोण इसलिए विश्वसनीयता प्राप्त कर चुका है क्योंकि ए ओ ह्यूम ने स्वयं कहा था कि कांग्रेस की स्थापना आवश्यक है क्योंकि हमारे स्वयं के कार्यों से जन्मी ताकतवर और बढ़ती हुई शक्तियों से बचाव के लिए सेफ्टी वाल्व……….

Latest Post

भारत छोड़ो आंदोलन

8 अगस्त 1942 का दिन था जब कांग्रेस ने भारत छोड़ो आंदोलन की घोषणा कर दी थी गांधी जी ने लोगों का आह्वान किया और करो या मरो का नारा दिया ब्रिटिश सरकार ने उन सभी नेताओं को जेल भेज दिया जो इस आंदोलन को संगठित रूप से संचालित कर सकते थे परंतु ब्रिटिश शासन के इस दबाव के आगे लोग झुके नहीं और उनमें उत्साह बराबर बना रहा स्थानीय स्तर पर नए नेता उभर कर सामने आ गए थे जिन्होंने इस आंदोलन को जारी रखने का भरसक प्रयास किया इस आंदोलन के रूप में केंद्रीय कमान में कमी आई तथा सरकार ने इस आंदोलन को पूरे बल के साथ दबाने का कार्य आरंभ किया चारों ओर हिंसा भड़क चुकी थी रेलवे स्टेशन और डाकघरों और पुलिस स्टेशनों को आंदोलनकारियों ने जला दिया अनेक क्षेत्रों में समान सरकार स्थापित हो चुकी थी हड़ताल……………..

Latest Post

भारत का राष्ट्रपति

भारत का राष्ट्रपति ब्रिटेन की महारानी की तरह होता है जिसका काम आलंकारिक अधिक होता है राष्ट्रपति देश की सभी राजनीतिक संस्थाओं के काम की निगरानी करता है ताकि वे राज्य के उद्देश्य को हासिल करने के लिए मिल-जुलकर काम करें। राष्ट्रपति का चयन जनता द्वारा प्रत्यक्ष रूप से नहीं किया जाता संसद सदस्य और राज्य की विधानसभाओं के सदस्य उसे चुनते हैं राष्ट्रपति पद के प्रत्याशी को चुनाव जीतने के लिए बहुमत हासिल करना होता है इससे यह तय हो जाता है कि राष्ट्रपति पूरे राष्ट्र का प्रतिनिधित्व करता है लेकिन राष्ट्रपति उस तरह से प्रत्यक्ष जनादेश का दावा नहीं कर सकता जिस तरह से प्रधानमंत्री। इससे यह तय होता है कि राष्ट्रपति कहने मात्र के लिए कार्यपालिका की भूमिका निभाता है सारी सरकारी गतिविधियां राष्ट्रपति के नाम पर ही होती है सारे कानून और सरकार………..

Latest Post

भारत का चुनाव अभियान

चुनावों का मुख्य उद्देश्य लोगों को अपनी पसंद के प्रतिनिधियों सरकार और नीतियों का चुनाव करने का अवसर देना है इसीलिए कौन प्रतिनिधि बेहतर है कौन पार्टी अच्छी सरकार देगी या अच्छी नीति कौन सी है इस बारे में स्वतंत्र और खुली चर्चा भी बहुत जरूरी है चुनाव अभियान के दौरान ही यही होता है हमारे देश में उम्मीदवारों की अंतिम सूची की घोषणा होने और मतदान की तारीख के बीच आम तौर पर 2 सप्ताह का समय चुनाव प्रचार के लिए दिया जाता है इस अवधि में उम्मीदवार मतदाताओं से संपर्क करते हैं राजनेता चुनावी सभाओं में भाषण देते हैं और राजनीतिक पार्टियां अपने समर्थकों को सक्रिय करती है इस अवधि में अखबार और टीवी चैनलों पर चुनाव से जुड़ी खबरें और बहसें भी होती है पर असल में चुनाव अभियान सिर्फ 2 हफ्ते नहीं चलता राजनीतिक दल चुनाव होने के महीनों पहले से इन की तैयारियां………

Latest Post

भारत का आधुनिक इतिहास

भारतीय इतिहास का आधुनिक युग अंतिम मुगल सम्राट औरंगजेब की मृत्यु से आरंभ माना जाता है महान मुगल साम्राज्य क्रमशः अनेक स्वायत्तशासी राज्यों में विकसित हो रहा था तथा ब्रिटिश शक्ति का उत्तरोत्तर विकास हो रहा था इस बीच मराठे पतनोन्मुख मुगलों की राजनीतिक सत्ता के दावेदार के रूप में उभरने का प्रयास कर रहे थे किंतु अंग्रेजों के हाथों वें भी पराजित हुए 18वीं शताब्दी वस्तुतः देश में राजनीतिक उथल-पुथल तथा आर्थिक गतिरोध का युग था समाज में भी अनेक बुराइयां व्याप्त हो गई थी व्यापार एवं राजनीति में अंग्रेज तथा फ्रांसीसी परस्पर कटु प्रतिस्पर्धी थे तीन कर्नाटक के युद्ध में अंग्रेजों की विजय हुई तथा फ्रांसीसियों का भारत में अपने साम्राज्य स्थापित करने का सपना अधूरा रह गया। सन 1757 से 1857 ई. के मध्य अंग्रेज…….

Latest Post

प्रधानमंत्री और मंत्रिपरिषद

भारत में प्रधानमंत्री सबसे महत्वपूर्ण राजनीतिक संस्था है फिर भी प्रधानमंत्री के लिए कोई प्रत्यक्ष चुनाव नहीं होता राष्ट्रपति प्रधानमंत्री को नियुक्त करते हैं लेकिन राष्ट्रपति अपनी मर्जी से किसी को प्रधानमंत्री नियुक्त नहीं कर सकते राष्ट्रपति लोकसभा में बहुमत वाली पार्टी या पार्टियों के गठबंधन के नेता को ही प्रधानमंत्री नियुक्त करता है अगर किसी एक पार्टी या गठबंधन को बहुमत हासिल नहीं होता तो राष्ट्रपति उसी व्यक्ति को प्रधानमंत्री के रूप में नियुक्त करता है जिसे सदन में बहुमत हासिल होने की संभावना होती है प्रधानमंत्री का कार्यकाल तय नहीं होता वह तब तक अपने पद पर रह सकता है जब तक वह पार्टी या गठबंधन का नेता है प्रधानमंत्री को नियुक्त करने के बाद राष्ट्रपति प्रधानमंत्री की सलाह पर दूसरे मंत्रियों……..